ALL Cover Story Story Health Poems Editorial
विभिन्न अंगों के दर्द
August 30, 2019 • भारत सिंह 'भरत'

दर्द शब्द ही दर्द भरा लगता है। शरीर में दर्द कहीं का हो, दर्दनाक ही होता है। इस भागदौड़ की जिन्दगी में हर आदमी किसी न किसी दर्द से परेशान है। संसार में जितनी खपत दर्द की गोलियों की होती है, शायद इतनी किसी अन्य मर्ज की दवा की नहीं होती है।

सभी प्रकार के दर्दो के कारण हमारा गलत खान-पान, गलत रहन-सहन तथा सभी प्रकार के प्रदूषण ही जिम्मेदार है।

सभी प्रकार के दर्दो का निवारण हमारी घरेलू चिकित्सा द्वारा किया जा सकता है। छोटे-छोटे नुस्के बड़े-बड़े दर्दो को दूर कर सकते है। आप इनको आजमाकर तो देखें।

सिर दर्द

1. सिर दर्द में गाय का घी अथवा बादाम तेल की 5-5 बूंदें दोनो नथुनों में प्रातः रात्रि सोने से पूर्व डालने से सभी प्रकार के सिर दर्द ठीक हो जाते हैं।

2. षड़विन्द तेल की 3-4 बूंदें दोनों नाक में सुबह-शाम डालने से सिर दर्द ठीक हो जाता हैं।

3. नीबू के पत्तों का रस 2-3 बूंद नथुनों में डालन से भी सिर दर्द ठीक होता है।

4. सारस्वतारिष्ट 2-2 चम्मच समभाग पानी मिला कर दिन में 2-3 बार सेवन करने से सिर दर्द दूर होता है।

5. आधा शी-शी सिर दर्द में गाय का घी अथवा सरसों के तेल को कई बार सँघने मात्र से सिर दर्द ठीक हो जाता

आँख दर्द

1. आँखों में दर्द एवं लालिमा होतो 10 मिली गुलाब जल में मूंग के दाने के बराबर फिटकरी घोल कर 2-2 बूंदें सुबह-रात्रि दोनों आँखों में डालने से तुरन्त फायदा होता है।

2. वेल के पत्तों के रस को आँख में 2-2 बूंद सुबह-शाम डालने से तुरन्त आँख दर्द ठीक होता है।

3. आँख दर्द में हरे आवले के रस की 22 बूंदे सुबह-शाम आँखों में डालने से ठीक हो जाती हैं।

4. कमजोरी की बजह से आँख दर्द हो तो एक चम्मच मलाई आधा चम्मच मिश्री 5 पिसी काली मिर्च मिलाकर प्रातः खाली पेट एक सप्ताह लें। खाने के बाद पानी न पिएं।

5. छोटी हरण तथा माजूम फल को पानी डालकर पत्थर में घिसकर सलाई से आँखों में लगाने से आँख दर्द में तुरन्त आराम मिलता है।

कान दर्द

1. कान दर्द में सरसों के तेल में नीम के पत्ते, लहसुन, मेथी, अजवाइन, अदरक कूटकर उबाल लें। फिर छानकर हलका गुनगुना तेल कान में 5-5 बूंद डालने से कान दर्द ठीक होता

2. प्याज भूनकर उसका रस गुनगुना करके कान में डालने से दर्द में राहत मिलती आँखों है। 

3. गेंदे के पत्तों के रस को गुनगुना करके कान में डालने से कान दर्द ठीक होता हैं।

4. चुकन्दर के पत्तों का रस निकालकर गरम करके गुनगुना होने पर दोनों कानों में 5-5 बूंद डालने से कान दर्द ठीक हो जाएगा।

5. केले की डंडी को गरम करके उसका रस गुनगुना-गुनगुना कान में डालने से कान दर्द ठीक हो जाता है।

गला दर्द

1. एक गिलास गरम दूध में हल्दी चूर्ण तथा सोंठ चूर्ण आधा-आधा चम्मच डालकर सुबह-शाम तीन दिन पिएँ गला दर्द एवं सूजन ठीक हो जाएगी

2. बड़ी हरण का चूर्ण एक चम्मच आधा चम्मच हल्दी तथा थोड़ा नमक 5 मिनट एक गिलास गर्म पानी में उबालें इसके बाद गुनागुना होने पर गरारे करें। (सुबह-शाम तीन दिन) गले के धोल दर्द खरास सब ठीक हो जाएगी।

3. नीम की छाल बड़ी हरण की छाल, दारू हल्दी, साधारण हल्दी 10-10 ग्राम पीसकर रख लें। आधा-आधा चम्मच दवा शहद के साथ सुबह-शाम तीन दिन चाटें गला दर्द ठीक हो जाएगा।

4. एक चम्मच अजवाइन कूटकर थोड़ा नमक डालकर एक गिलास, पानी में उबालें आधा रहने पर पानी छानकर गुनगुना होने पर सुबह-शाम गरारे करें गला दर्द एवं सूजन ठीक हो जाएगी

5. गला खरास में दो लौंग पिसी हुई 10 ग्राम अन्तर छिल का (पिसा) थोड़ी सी फिटकरी डालकर पानी उबालें तथा गुनगुना करके गरारे करें तुरन्त लाभ होगा।

दाँत दर्द

1. दाढ़ में गड़ठा हो तो नौंसादर-सोंठ पीसकर बराबर मात्रा में मिलाकर थोड़ी सी दवा गड्ढे से भर दें आराम आएगा। 2-3 दिन करें। ।

2. लौंग और फिटकरी समान मात्रा में पीसकर मिला के तथा सुबह-शाम मंजन करें दाँत दर्द ठीक हो जाएगा।

3. चायरिया हो तो 50 ग्राम सफेद नमक 100 ग्राम फिटकरी पीसकर मिलाकर रख लें तथा सुबह-शाम मंजन करें शीघ्र लाभ होगा।

4. दाँतों में खून आता हो तो फिटकरी भूनकर पीस लें उसमें समभाग पिसी हल्दी मिलाकर सुबह-शाम मंजन करें रक्त आना बन्द हो जाएगा।

5. यदि दाँत हिलते हो तो पीपल की छाल पीसकर दाँतों एवं मसूड़ों में भले तथा छालकर गरम पानी में उबालकर नमक डालकर कुल्ला करें।

कमर दर्द

1. अरंडी की 5-7 गिरि पीसकर आधा चम्मच हल्दी दूध में उबाल लें तथा मीठा डालकर सुबह-शाम कुछ दिन पिएं कमर दर्द में लाभ होगा।

2. हल्दी या सोंठ आधा-आधा चम्मच दूध में डालकर उबालें तथा गुनगुना होने पर शहद, डालकर पिएँ। सुबह-शाम 3-5 दिन करें कमर दर्द में लाभ होगा।

3. सुबह-शाम अखरोट की 3-5 गिरि रोज खाएँ लाभ होगा। तथा एलोवेरा का गूदा 10-15 ग्राम शहद के साथ खाएँ। 

4. खसखस को रवे की तरह धीमि हल्का भूनकर हल्दी गुड़ डालकर हलवा बनाकर गरम-गरम सुबह-शाम खाने से भी कमर दर्दे में लाभ होगा।

5. सरसों तेल में अजवाइन, अदरक डालकर मन्द आँच में उबालें जब सब अदत काले पड़ जाएँ तो उतारकर छान लें तथा गरम-गरम तेल से सुबह-शाम कमर में मालिस करें आराम आएगा।

साइटिका

1. साइटिका दर्द में हारसिहार के 10-15 पत्ते साफ करके कूटकर 300 मि.ली. पानी में उबालें 100 मि.ली. पानी बचने पर छानकर गुनगुना-गुनगुना पिएँ। यह प्रयोग सुबह-शाम 45-60 दिन करें साइटिका दर्द से छुटकारा मिल जाएगा

2. 250 ग्राम, परिजात के पत्ते साफ धोकर साफ कर लें तथा कूटकर तीन लीटर पानी में उबालें। जब पानी दो लीटर रह जाए तो पानी छानकर रख लें। जबजब प्यास लगे 200-200 मि.ली. पानी की खुराक लें इससे साइटिक दर्द में आराम मिलेगा।

3. सुरजान मीठी 50 ग्राम, सनाय के पत्ते 2 ग्राम, केशर 2 ग्राम, चित्रक 8 ग्राम, तथा खाँड़ 80 ग्राम सब दवाओं को अलग-अलग पीसकर छानकर मिलाकर रख लें। रोज रात्रि में 6-7 ग्राम दवा पानी लें। कुछ दिन में लाभ होगा।

4. कुचला (शुद्ध किया हुआ) घी में भूनकर बारीक पीस लें तथा एक-एक रत्ती कुचला हलवा में मिलाकर सुबहशाम एक सप्ताह सेवन करने से साइटिका सूल ठीक हो जाता है।

5. सफेद फिटकरी भुनी हुई 10, ग्राम कीकर की गोंद 20 ग्राम सुरजान मीठी 30 ग्राम सबको पीसकर थोड़ा सा पानी मिलाकर आधा-आधा ग्राम की गोली बनालें। एक-एक गोली दिन में तीन बार खाने के बाद पानी से लें। साइटिका दर्द ठीक हो जाएगा।

घुटना दर्द

1. घुटना दर्द में 100-100 ग्राम अश्वगन्धा चूर्ण, मेथी दाना चूर्ण, सोंठ चूर्ण तथा हल्दी चूर्ण मिलाकर रख लेंएक-एक चम्मच गर्म दूध के साथ सुबह-शाम 30 दिन सेवन करने से फायदा होगा।

2. 2 ग्राम हरण-चूर्ण 5 ग्राम सोंठ चूर्ण 2 ग्राम दालचीनी चूर्ण, 2 नग, छोटी इलाइची कुटी हुई तथा 2 कली लहसुन कुटी हुई 300 ग्राम दूध में उबालें जब दूध 200 ग्राम रह जाए तो मीठा डालकर गर्म-गर्म पिएँ। सुबह-शाम 15-20 दिन करें।

3. अश्वगन्धा विधारा तथा सोंठ 100100 ग्राम तथा मिश्री 300 ग्राम कूटपीसकर रस लें 5-5 दवा सुबह-शाम गर्म जल से दें 15-20 दिन में घुटनों का दर्द ठीक हो जाएगा