‘तन्हाई का सुकून का विमोचन सम्पन्न
June 20, 2019 • Parmod Kumar Kaushik

पत्रकार जितेंद्र जैकी की पुस्तक 'तन्हाई का सुकून...' का विमोचन समारोह सम्पन्न हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि सुमर धाम आश्रम के संत धर्मदास महाराज त्यागी, शहर काजी अब्दुल रहमान, सेंट जोन्स सोसायटी के निदेशक डी. पोनंचन्य व गुरुद्वारा सिंह सभा के मुख्यग्रंथी सरदार प्रीतम सिंह रहे। अध्यक्षता गुजरात के केंडिला जायड्स हॉस्पिटल अहमदाबाद की कस्टमर केयर सर्विस डिर्पाटमेंट की प्रभारी लालिमा शर्मा ने की। सरस्वती वंदना अर्चना मालपानी ने व संचालन जाकिर खान जाकिर ने किया। इस अवसर पर पर्यटन विकास समिति के अध्यक्ष दिनेश सक्सेना, इतिहासकार ललित शर्मा, कवि राजकुमार जैन टिल्लू, जिला प्रेस क्लब के अध्यक्ष संजय बापना, पूर्व विधायक अनिल जैन, सर्व ब्राह्मण महिला मंडल की जिलाध्यक्ष सीमा शर्मा, साहित्यकार राजेंद्र तिवारी ने विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम में शहर की विभिन्न सामाजिक, साहित्यिक व संगीत संस्थाओं के प्रतिनिधियों ने भाग लिया।

डॉ. जितेंद्र कुमार संजय को मिलारु. 51000 का महाराणा कुंभा सम्मान

महाराणा मेवाड़ चैरिटेबल फाउण्डेशन, उदयपुर द्वारा आयोजित 'अंर्तराष्ट्रीय सम्मान समारोह में इतिहास, साहित्य, भाषा, काव्य तथा संपादन के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने के लिए जनपद सोनभद्र के देवगढ़ निवासी डॉ. जितेंद्र कुमार संजय को पुरस्कृत किया गया। डॉ. जितेंद्र कुमार 'संजय' नई पीढ़ी के मौलिक, बहुमुखी तथा अति रचनाशील साहित्यकार हैं। मात्र 35 वर्ष की आयु में आपने साहित्य रचना के अनेक महत्वपूर्ण आयाम |स्थापित किए हैं। इनका अध्ययन क्षेत्र बहुत विस्तृत तथा इतिहास दृष्टि अतिसूक्ष्म और तथ्यपरक है। डॉ. जितेंद्रकुमार 'संजय' साहित्य के वर्तमान युग को प्रतिनिधित्व करने में सहज रूप से सक्षम हैं। 'दी कोर' परिवार आपकी निरंतर तथा सफल साहित्य साधना के लिए शुभकामनाएं प्रेषित करता है।

'सण प्रवृतियां, अभिशाप न बन जाए' विषय पर सेमिनार

बौद्धिक विचार-विमर्श के लिए कृत संकल्प संस्था 'संवाद' ने प्रकाश इंस्टिट्यूट एंड हॉस्पिटल ग्रेटर नोएडा में 'सद्गुण प्रवृतियों वाला समाज कैसे करेगा आतंकवाद का मुकाबला' नामक विषय पर एक सेमिनार का आयोजन किया। इसमें अनेक बुद्धिजीवियों ने अपने विचार रखे। बुद्धिजीवियों द्वारा राष्ट्र के विरुद्ध बोलने वालों को प्राण दण्ड, गरीबी दूर करने, आपसी भाईचारा तथा राष्ट्रीयता बढ़ाने तथा सेना का मनोबल बढ़ाने पर बल दिया गया। इस संस्था के संस्थापक तथा अध्यक्ष श्री राजवीर सिंह ने बताया कि हमारा उद्देश्य समसामयिक विषयों पर विभिन्न बुद्धिजीवियों को आमंत्रित कर चर्चा करना तथा उसके माध्यम से जन-जागरण तथा भविष्य की योजना बनाना रहता है।