ALL Cover Story Story Health Poems Editorial
हिन्दी जगत : विस्तार और संभावनाएं
September 25, 2019 • सुस्मित सौरभ

भारतभूमि के गौरवशाली अतीत में हिन्दी भाषा के अभिव्यक्ति में प्रयोग की एक सुदीर्घ और विस्तृत परंपरा मिलती है। साहित्यकारों और इतिहासकारों के मतानुसार हिन्दी भाषा का उद्गम १०वीं शताब्दी के आसपास माना गया है और तब से लेकर आजतक हिन्दी भाषा परे भारत में बोली और समझी जाता रही है। हिंदी भाषा की बढ़ती जा रही लोकप्रियता का अंदाजा इसीसे ही लगाया जा सकता है कि सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में हिंदी सीखने वालों की संख्या में जबरदस्त बढ़ोत्तरी हुई है। पिछले १०-१२ वर्षों में हिंदी बोलने वालों की संख्या में कई गुना वृद्धि दर्ज की गई है। देश में विदेशियों के आधिपत्य एवं गुलामी के दिनों में यहाँ अंग्रेजी शासनकाल होने की वजह से, अंग्रेजी का प्रचलन बढ़ गया था। लेकिन स्वतंत्रता के पश्चात देश के कई हिस्सों को एकजुट करने के लिए एक ऐसी भाषा की जरूरत थी जो सर्वाधिक बोली जाती है, जिसे सीखना और समझना दोनों ही आसान हों। तब विकल्प के रूप में हमारे समक्ष एक ही भाषा थी जो अपने लक्ष्य में सफल सिद्ध हो सकती थी वो थी हिन्दीआज भारत का लगभग पूरा जनआवाम हिन्दी भाषा को समझ या बोल सकता है। लेकिन यह बड़े दुःख की बात है कि इस गौरवमयी भाषा को अब तक राष्ट्रभाषा का दर्जा नहीं मिल सका और यह आज भी राजभाषा और संपर्कभाषा ही बनी हुई है। विश्व में प्रत्येक सम्मन्नत, स्वतंत्र और स्वाभिमानी राष्ट्र की अपनी एक राष्ट्रभाषा है। इंगलैंड, अमेरिका, रूस,  जर्मनी, चीन, फ्रांस जैसे सभी देशों में वहाँ की एक व्यापक प्रचलित भाषा राष्ट्रभाषा के रूप में व्यवहृत होती है। पर अफसोस कि हमारे देश भारत में आज भी कोई राष्ट्रभाषा नहीं है। इसका कारण चाहे हमारी सैकड़ों वर्षों की दासता हो या क्षेत्रीय राजनीति या कुछ और, लेकिन यह सर्वविदित है कि हमारी हिन्दी विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र की सबसे लोकप्रिय भाषा बनी हुई है और इसमें कोई संदेह नहीं कि हिन्दी के क्षेत्र में काफी विकास और विस्तार हुआ है। हिन्दी के प्रयोग को बढ़ाने के लिये कई महत्वपूर्ण और रचनात्मक कदम उठाये गये हैं और हमें काफी हद तक सफलता भी मिली है। भूमंडलीकरण के इस दौर में हिन्दी कई क्षेत्रों में अपने पैर जमाती नजर आती है।

दिन्टीजगत विस्तार

हिन्दी जगत के विस्तार की चर्चा को मैंने निम्न बिंदुओं के अंतर्गत विभाजित करने का प्रयास किया है

शिक्षा के क्षेत्र में : सन १८३५ में लॉर्ड मैकाले ने हिन्दी भाषा को साहित्यिक और वैज्ञानिक जानकारी की दृष्टि से अक्षम घोषित कर अंग्रेजी को मानक भाषा का दर्जा दिया था। इसके पश्चात अंग्रेजी की हिमाकत डलहौजी और कर्जन से लेकर पंडित नेहरु तक करते नजर आये। अंग्रेजीवादियों की दृष्टि में आज भी बिना अंग्रेजी के भारतीय भाषाओं का विकास संभव नहीं है। परन्तु, शिक्षा के क्षेत्र में हिन्दी के विस्तारीकरण ने उपरोक्त मिथ को चूर-चूर कर दिया है। जहाँ कभी रक्षासेवा, लोकसेवा, आई.आई.टी, बैंक आदि की परीक्षाओं के लिये अंग्रेजी माध्यम अनिवार्य माना जाता था वहीं आज ये सारी परीक्षाएं हिन्दी में हो रही हैं और यही नहीं इन परीक्षाओं में हिन्दी माध्यम के उम्मीदवार शीर्षस्थ स्थान प्राप्त कर रहे हैं। हिन्दी की महत्ता इस बात से सिद्ध होती है कि देश के छोटे से लेकर बड़े विश्वविद्यालयों तक लगभग हर जगह हिन्दी विषय का अध्ययन-अध्यापन हो रहा है और वहाँ शोधकार्य भी सफलता से संपन्न हो रहे हैं चाहे वो असम का तेजपुर विश्वविद्यालय हो या फिर दक्षिण भारत का मदुरै कामराज विश्वविद्यालय। आज हमारे देश में विदेशों से भी छात्र आकार हिन्दी विषय का अध्ययन कर रहे है, शोध कर रहे हैं। हिन्दी न केवल एशिया, यूरोप के देशों और अमरीका में बल्कि इजराइल के विश्वविद्यालयों में भी पढ़ायी जा रही है। रूसी विश्वविद्यालयों में भी हिन्दी के विशेषज्ञ शिक्षा पा रहे हैं। अमेरिका के ७५(पचहत्तर) विश्वविद्यालयों में हिन्दी-शिक्षण की पर्याप्त व्यवस्था है। मॉरीशस में हिंदी का काफी प्रचार, प्रसार है, पाठशाला, विद्यालय तथा प्रशिक्षण कॉलेज हैं। यह सत्य है कि हिंदी में अंग्रेजी के स्तर की विज्ञान और प्रौद्योगिकी पर आधारित पुस्तकें नहीं हैं पर विगत कुछ वर्षों से इस दिशा में उचित प्रयास हो रहे हैं। अभी हाल ही में महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा द्वारा हिंदी माध्यम में एम.बी.ए. का पाठ्यक्रम आरंभ किया गया है जो काफी लोकप्रिय हो रहा है। यह हिन्दी के क्षेत्र में एक बड़ी उपलब्धि है। आज हिन्दी देश के लगभग सभी विद्यालयों में एक अनिवार्य भाषा के रूप में पढ़ाई जा रही है और छात्रों का नामांकन भी बड़े पैमाने पर हो रहा है।

साहित्य के क्षेत्र में : किसी भाषा की महत्ता को निरुपित करने के लिये यह आवश्यक होता है कि उसमें साहित्य सृजन की एक विस्तृत और दीर्घ परंपरा हो और प्रायः सभी विधाएं वैविध्यपूर्ण और समृद्ध हों साथ ही साथ इसमें दूसरी भाषा के साहित्य से विचार विनिमय करने का सामर्थ्य हो। हिन्दी भाषा उपर्युक्त सारे गुणों से परिपूर्ण है। हिन्दी भाषा और साहित्य में पद्य और गद्य रचना का एक पुराना इतिहास मिलता है। हिन्दी एक मात्र ऐसी भारतीय भाषा है जिसमें उस क्षेत्र के बाहर के साहित्यकारों ने भारी मात्रा में साहित्य रचना की है। इन साहित्यकारों में प्रमुख हैं मोटुरि सत्यनारायण, गजानन मुक्तिबोध, यशपाल, उपेन्द्रनाथ अश्क, मन्मथनाथ गुप्त, क्षितिमोहन सेन आदि। यही नहीं, भारत के विभिन्न भाषाओं के साहित्य का अनुवाद भी हिन्दी भाषा में हुआ है और हो रहा है। आज के समय में विदेशी भाषा के प्रमुख सभी साहित्यकारों के साहित्य का हिन्दी अनुवाद या हिन्दी संस्करण सुगमता से उपलब्ध है। इसका कारण है कि हमारे भारत देश के साथ-साथ विदेशों में भी हिन्दी भाषा का एक विशाल पाठक वर्ग तैयार हो चुका है जो हिन्दी साहित्य में रूचि रखता है। आज चाहे चेतन भगत हों या अमीश त्रिपाठी या कोई अन्य जो अंग्रेजी में लेखन कर रहे हैं, __उनकी कृतियों का हिन्दी संस्करण उपलब्ध है क्योंकि एक ऐसा पाठक वर्ग है जो हिन्दी पढ़ता है और यह सिद्ध होता है कि हिन्दी का क्षेत्र दिनों दिन बढ़ रहा हैहिन्दी में रचना करने वाले रचनाकारों की संख्या में काफी वृद्धि हुई है और साथ ही साथ हिन्दी प्रकाशकों की संख्या में भी। यही नहीं हिन्दी के काफी शोधपत्रों का प्रकाशन भी जोर-शोर से हो रहा है। मुझे लगता है कि आरम्भ से हिन्दी साहित्य के पिछड़ेपन का एक प्रमुख कारण साहित्यकारों की गरीबी और साहित्य मुद्रण में होने वाला अत्यधिक खर्च रहा है। परन्तु आज स्थिति बदल गयी है। प्रिंट मीडिया की जगह इलेक्ट्रोनिक मीडिया ने ली है और आज साहित्य का प्रकाशन इ-बुक और इ-मैग्जीन के रूप में हो रहा है जिससे साहित्य रचना का लाभ साहित्यकारों से लेकर पाठकों को आसानी से मिल पा रहा है। भारत के बाहर विदेशों में भी हिन्दी साहित्य रचना का कार्य बड़े पैमाने पर हो रहा है। संयुक्त राज्य अमेरिका में ही दो सौ से अधिक हिंदी साहित्यकार सक्रिय हैं जिनकी पुस्तकें छप चुकी हैं। अमेरिका से 'विश्वा', 'हिंदी जगत', 'प्रयास', 'साहित्यकुंज' तथा वैज्ञानिक पत्रिका 'विज्ञान प्रकाश' हिंदी की दीपशिखा को जलाए हुए हैं तो मॉरीशस से 'विश्व हिंदी समाचार', 'सौरभ', 'वसंत' जैसी पत्रिकाएँ हिंदी के सार्वभौम विस्तार को प्रामाणिकता प्रदान कर रही हैं। संयुक्त अरब इमारात से वेब पर प्रकाशित होने वाले हिंदी पत्रिकाएँ 'अभिव्यक्ति' और 'अनुभूति' पिछले कई वर्षों से लोकमानस को तृप्त कर रही हैं। फिजी सरकार सूचना-मंत्रालय के माध्यम से 'नवज्योति' नामक त्रैमासिक हिंदी-पत्रिका का भी प्रकाशन करती है, जिसका विषय सरकारी कार्यों और उपलब्धियों पर आधारित होता है। आस्ट्रेलिया में न्यू साउथ वेल्स से मासिक पत्रिका 'हिंदी समाचार पत्रिका', ब्रिटेन से प्रकाशित त्रैमासिक हिंदी-पत्रिका 'प्रवासिनी', 'पुरवाई', बर्मा से मासिक पत्रिका 'ब्रह्मभूमि', गुयाना से मासिक पत्रिका 'ज्ञानदा', सूरीनाम से 'आर्यदिवाकर' और मासिक पत्रिका 'सरस्वती' आदि का प्रकाशन हिंदी के विश्वव्यापी विस्तार का ठोस प्रमाण प्रस्तुत करते हैं।

मीडिया और जनसंचार में : यदि बात जनसंचार के माध्यमों में भागीदारी की करें तो हिन्दी का स्थान भारत में ही नहीं विश्व में भी सर्वोपरि है। फिर बात समाचार पत्र की हो या रेडियो की, या उपग्रह चैनल, सोशल साइट्स और ब्लॉग की। आज विश्व में सबसे ज्यादा पढ़े जाने वाले समाचार पत्रों में आधे से अधिक हिन्दी के हैं। यदि भारत की बात की जाये तो यहाँ सर्वाधिक समाचार पत्र हिन्दी भाषा में ही प्रकाशित होते हैं। इसका आशय यही है कि पढ़ा-लिखा वर्ग भी हिन्दी के महत्त्व को समझ रहा है। वस्तुस्थिति यह है कि आज भारतीय उपमहाद्वीप में ही नहीं बल्कि दक्षिण पूर्व एशिया, मॉरीशस, चीन, जापान, कोरिया, मध्य एशिया, अफ्रीका, यूरोप, कनाडा तथा अमेरिका तक में हिन्दी कार्यक्रम उपग्रह चैनलों के जरिए प्रसारित हो रहे हैं और भारी तादाद में उन्हें दर्शक भी मिल रहे हैं। आज मॉरीशस में हिंदी सात चैनलों के माध्यम से धूम मचाए हुए है। विगत दो दशकों में एफ.एम. रेडियो के विकास से हिंदी कार्यक्रमों का नया श्रोता वर्ग पैदा हो गया है। बी बी सी लन्दन, रेडियो रूस, रेडियो डॉयचेवेले जैसे कई महत्वपूर्ण रेडियो चैनल हैं जो कई दशकों से हिन्दी में कार्यक्रम प्रस्तुत करते आ रहे हैं जिससे हिन्दी के विस्तार को काफी बढ़ावा मिला है। फिजी में 'रेडियो नवरंग' ऐसा रेडियो स्टेशन है, जो २४ घण्टे हिंदी कार्यक्रम पेश कर रहा है। भारत में टेलीविजन के समाचार के चैनल की बात की जाए तो अधिकतर चैनल हिन्दी भाषा में ही समाचार प्रस्तुत करते हैं और दिन प्रतिदिन इनकी संख्या में वृद्धि हो रही है। इंटरनेट पर हिन्दी के अनेक पोर्टल हैं। फेसबुक, व्हाट्स अप्प, ट्विटर, ब्लॉग आदि पर हिन्दी भाषा देवनागरी लिपि में भी लिखी जाने लगी है जो कुछ वर्ष पूर्व रोमन में लिखी जाती रही थी। इंटरनेट पर हिन्दी ब्लॉग की बाढ़ सी आ रखी है। देश ही नहीं विदेशों से भी ब्लॉग लेखन का काम हिन्दी में हो रहा है और साथ ही साथ लोग विदेशों में इन्हें बड़ी सजगता से पढ़ भी रहें हैं। इस प्रकार इंटरनेट जैसे वैश्विक माध्यम पर हिन्दी में सोशल साइट्स, ब्लॉग्स आदि की उपस्थिति हिन्दी भाषा के विस्तार को सहजता से अभिलक्षित करती है।

फिल्म और टेलीविजन में : हिन्दी जगत के विस्तारण में भारतीय फिल्म और टेलीविजन उद्योग ने एक महत्वपूर्ण भूमिका अदा की है। पिछले पांच दशकों की बात करें तो देखने को मिलेगा कि भारतीय सिनेमा ने शहरी दर्शकों को ही नहीं गांव के दर्शकों को भी प्रभावित किया है। लोग जिन्हें हिन्दी नहीं आती थी उन्होंने हिन्दी सिनेमा के माध्यम से हिन्दी सीखी है। टेलिविजन के प्रसार के कारण अब विश्व के प्रत्येक भूभाग में हिन्दी फिल्मों तथा उनके गीतों की लोकप्रियता सर्वविदित है। बात यदि भारतीय सिनेमा की करें तो भाषा का प्रचार-प्रसार, साहित्यिक कृतियों का फिल्मी रुपांतरण, हिंदी गीतों की लोकप्रियता, हिन्दी की उपभाषाओं, बोलियों का सिनेमा और सांस्कृतिक एवं जातीय प्रश्नों को उभारने में भारतीय सिनेमा का योगदान जैसे मुद्दे महत्वपूर्ण ढंग से सामने आते हैं। हिन्दी भाषा की संचारात्मकता, शैली, वैज्ञानिक अध्येयन, जन संप्रेषणीयता, संवाद लेखन, दृश्यात्मकता, संक्षिप्त कथन, प्रतीकात्मकता, भाषा-दृश्य की अनुपातिकता आदि मानकों को भारतीय सिनेमा ने गढ़ा है। आज भिन्न भाषा की भारतीय फिल्मों का हिन्दी रूपांतर हो रहा है और वे अपनी मूल भाषा की फिल्म से अधिक धनार्जन कर रही हैं क्योंकि भारत में हिन्दी दर्शकों की संख्या में वृद्धि हो रही है। आज हॉलीवुड के फिल्म निमार्ता भी भारत में अपनी विपणन नीति बदल चुके हैं। वे जानते हैं कि यदि उनकी फिल्में हिंदी में रूपांतरित की जाएगी तो यहाँ से वे अपनी मूल अंग्रेजी में 'निर्मित चित्रों' के प्रदर्शन से कहीं अधिक मुनाफा कमा सकेंगे। हालीवुड की आज की वैश्विक बाजार की परिभाषा में हिंदी जानने वालों का महत्व सहसा बढ़ गया है। यही नहीं, पिछले कुछ वर्षों में कई भारतीय हिन्दी फिल्में आस्कर पुरस्कार के लिये नामित हो चुकी हैं और उनमें से कुछ आस्कर जीत भी चुकी हैं। हिन्दी संगीतकारों को आस्कर से नवाजा जा चुका है। (शुरूआत में स्टार, सोनी वगैरह दूसरे चैनल अंग्रेजी कार्यक्रम लेकर भारत में आए । मगर इन सबको विवश होकर हिन्दी की रुख करना पड़ा क्योंकि इन्हें अपनी दर्शक संख्या बढ़ानी थी। नेशनल ज्योग्राफिक, डिस्कवरी, निक जैसे विदेशी चैनल अपने सारे कार्यक्रम हिन्दी भाषा में प्रस्तुत कर रहें हैं क्योंकि टी. वी. चैनलों एवं मनोरंजन की दुनियाँ में हिन्दी सबसे अधिक मुनाफे की भाषा बन चुकी है। आज स्पोर्ट्स के चैनल भी अपना प्रसारण हिन्दी भाषा में कर रहे हैं। इससे यह स्पष्ट होता है कि किसी न किसी रूप में हिन्दी का महत्व बढ़ा है और उसने अपने क्षेत्र में परिवृद्धि की है।)

समाज, व्यापार और राजनीति में : आज हमारे देश में हिन्दी एक ऐसी भाषा बन चुकी है जो कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी और गुजरात से लेकर मिजोरम तक संपर्क भाषा के रूप में प्रयुक्त हो रही है। मेरा यह कथन अतिशयोक्तिपूर्ण प्रतीत हो सकता है, परन्तु यह सच है। भारत के किसी भी राज्य का निवासी जब दूसरे राज्य में जाता है तो वह सबसे पहले हिन्दी भाषा में ही संपर्क करने का प्रयत्न करता है। आज हिन्दी हमारे देश के जन-जन की भाषा बन चुकी है क्योंकि अपने आप को अभिव्यक्त करने के लिये इसका प्रयोग मजदूर, किसान, कुली, मछुआरा, कसाई, रिक्शेवाला, शिक्षक, छात्र, नेता, मंत्री, वकील, अभिनेता, सैनिक, साधु, पत्रकार, पुलिस, महिला, पुरुष सभी करते हैं। भले ही हिन्दी के कई रूप बन चुके हैं जैसे बिहारी हिन्दी, हैदराबादी हिन्दी, बम्बइया हिन्दी, साउथ इन्डियन हिन्दी पर है तो हिन्दी ही और भारत के हर राज्य के लोग इसका प्रयोग अपने सामर्थ्य के अनुसार कर रहे हैं। भारत का कोई व्यक्ति विदेशों में भी यदि दूसरे भारतीय से मिलता है तो वह हिन्दी में ही बात करने की कोशिश करता है। हिन्दी प्रसार की बात करें तो स्वामी रामदेव, जो आसन-प्राणायाम आदि यौगिक क्रियाओं को, कुछ चुने-गिने योगी-साधुओं के घेरे से बाहर लाकर, आम आदमियों को अपनाने का संदेश अपने सहज, सरल किन्तु ओजस्वी हिन्दी प्रवचनों के द्वारा देश-विदेश में फैला रहे हैं। आज श्री श्रीरविशंकर, कृपालु जी, मोरारी बाबू, साध्वी ऋतम्भरा आदि दर्जनों सन्त एवं राम और कृष्ण के कथावाचक अपने हिन्दी प्रवचनों द्वारा लोगों के हृदय में भक्ति-भावना जगा रहे हैं और स्वामी प्रभुपाद द्वारा स्थापित इस्कोन जैसे दर्जनों संघ संस्थाएं 'हिन्दी' को वह उच्च स्थान दिलाने में संलग्न हैं। जहाँ तक अंतरराष्ट्रीय स्तर पर राजनीतिक, सामाजिक, सांस्कृतिक तथा आर्थिक विनिमय के क्षेत्र में हिंदी के अनुप्रयोग का सवाल है तो यह देखने में आया है कि (हमारे देश के नेताओं ने समय- समय पर अंतरराष्ट्रीय मंचों पर हिंदी में भाषण देकर उसकी उपयोगिता का उद्घोष किया है। यदि अटल बिहारी वाजपेयी तथा पी.वी. नरसिंहराव द्वारा संयुक्त राष्ट्र संघ में हिंदी में दिया गया वक्तव्य स्मरणीय है तो श्रीमती इंदिरा गांधी द्वारा राष्ट्र मंडल देशों की बैठक तथा चन्द्रशेखर द्वारा दक्षेस शिखर सम्मेलन के अवसर पर हिंदी में दिए गए भाषण भी उल्लेखनीय हैं।) यूनेस्को के बहुत सारे कार्य हिंदी में सम्पन्न होते हैं। आठवें विश्व हिंदी सम्मेलन न्यूयार्क में, संयुक्त राष्ट्रसंघ के महासचिव बान की मून ने और भारत दौरे के दौरान अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कुछ वाक्य हिंदी में बोलकर वाह-वाही लूटी। आज के परिपेक्ष्य में देश के विभिन्न हिस्सों में वर्तमान प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का हिन्दी में दिया गया भाषण भी सर्वविदित है। मोदी जी ने तो अपने विदेश यात्रा के दौरान अपना भाषण हिन्दी में ही दिया और लोगों ने उसे ध्यान से सुना भी है फिर चाहे वो प्रधानमंत्री का अमेरिका दौरा हो या नेपाल दौरा। जाहिर सी बात है कि हमारे प्रधानमंत्री का कृत्य कहीं-कहीं हिन्दी के क्षेत्र को बढ़ाने में कारगर सिद्ध हो रहा है और भविष्य में भी कारगर सिद्ध होगा। दूसरी ओर बहुराष्ट्रीय कम्पनियाँ भारत के बाजार में पैठ लगाने हेतु हिंदी की उपयोगिता में उत्तरोत्तर बढ़ोतरी करते जा रही हैं। आज भारत विश्वस्तर पर एक बड़ा बाजार बन चुका है। यहाँ आयात भी हो रहा है निर्यात भी। आज के इस प्रतिस्पर्धा और बाजारीकरण के दौर में विदेशी कंपनियों के भारतीय बाजार में अपने आप को स्थापित करने की होड़ ने भी कहीं न कहीं हिन्दी भाषा के विस्तारीकरण में सहायता प्रदान की है।

सूचना तकनीक और कम्प्यूटर में : 'सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में हिन्दी नयी जरुर है पर अक्षम नहीं' यह विगत कुछ वर्षों में साबित हो चुका है। सूचना प्रौद्योगिकी के अंतर्गत कंप्यूटर के साथ-साथ माइक्रो इलेक्ट्रॉनिक्स और संचार प्रौद्योगिकियाँ भी शामिल है। हिंदी कंप्यूटरीकरण हिंदी भाषा से सम्बन्धित सकल कार्यों को कम्प्यूटर, मोबाइल या अन्य डिजिटल युक्तियों पर कर पाने से सम्बन्धित है। यह मुख्यतः उन साफ्टवेयर उपकरणों एवं तकनीकों से सम्बन्ध रखता है जो कम्प्यूटर पर हिंदी के विविध प्रकार से प्रयोग में सुविधा प्रदान करते हैं। आज मोबाईल में हिन्दी फॉन्ट का प्रयोग तथा ए टी एम, कियोस्क, इलेक्ट्रोनिक डिस्प्ले और साइनबोर्ड में हिन्दी के प्रयोग ने सूचना तकनीक के क्षेत्र में हिन्दी के परिमार्जन को चिह्नित किया है। यूनिकोड के आगमन के बाद से बहुत से सॉफ्टवेयरों, साइटों तथा ऑनलाइन सेवाओं का यूनिकोडकरण शुरू हुआ। आज इनमें से अधिकतर यूनिकोड सक्षम हैं और अब तो फॉन्ट बदलने की सुविधा भी है जिससे नॉन-यूनिकोड फॉन्ट जैसे कृतिदेव आदि चुनकर हिंदी टाइप की जा सकती है। कम्प्यूटर पर हिन्दी में आलेख, सूचियाँ, डेटाबेस, पुस्तकें आदि के लिए टूल्स बन गए हैं तथा इंटरनेट से हिन्दी में ई-मेल, ब्लॉग, कॉन्फ्रेंसिंग करने की भी सुविधा है। फॉन्ट, कन्वर्जन यूटिलिटी, ऑफिस सॉफ्टवेयर, ओसीआर, बोल पहचान, वर्तनी जाँच, ट्रांसलेशन सपोर्ट मुक्त रूप में मिल रहे हैं। इसके साथ-साथ याहू, गूगल, माइक्रोसॉफ्ट आदि पर हिन्दी भी ____ उपलब्ध है। अपनी तमाम कठिनाईयों के बावजूद भी हिंदी ने जिस तरह प्रौद्योगिकी जगत में अपना पैर जमाया है उसकी भूरिभूरि प्रशंसा मुक्त कंठ से जितनी ज्यादा की जाए उतना ही कम है। हिंदी अब नई प्रौद्योगिकी के रथ पर आरूढ होकर विश्वव्यापी बन रही है और उसे ई-मेल, ईकॉमर्स, ई-बुक, इंटरनेट, एस.एम.एस. एवं वेब जगत में बड़ी सहजता से पाया जा सकता है

हिन्दी जगतः संभावनाएं

कोई भाषा छोटी या बड़ी नहीं होती बल्कि समाज, देश या विश्व में उसका प्रयोग ही उसे छोटा या बड़ा बनाता है। डॉ जयंती प्रसाद नौटियाल के अनुसार - "हिन्दी जानने वालों की संख्या अब एक अरब, दस करोड़ तीस लाख है। आज के परिपेक्ष्य में हिन्दी को सबसे अधिक पढ़ी-बोली जाने वाली भाषा के रूप में दूसरा क्रम दिया गया है। आज जिस तरह से भारत विश्व पटल पर एक शक्ति के रूप में उभर रहा है उसे देखते हुए भविष्य में हमारी हिन्दी भाषा के लिये असीम संभावनाएं दिखाई पड़ रही हैं। तकनीक, व्यापार, कम्प्यूटर, रोजगार, शिक्षा, टूरिज्म, प्रबंधन, एविएशन आदि ऐसे कई क्षेत्र हैं जिसमें आने वाले समय के दृष्टिकोण से हिन्दी का भविष्य उज्जवल नजर आ रहा है। भारत देश की विभिन्न स्तर की प्रतिभाएँ नौकरी, व्यवसाय के कारण भूमंडल के कोने-कोने में अपने नीड़ का निर्माण कर रही हैं। जो भारतीय विदेशों में जा रहे हैं वे हिंदी को भी अपने साथ ले जा रहे हैं तथा जो काफी पहले से विदेशों में बस कर विदेशी हो गए हैं उन्हें हिन्दी की आवश्यकता महसूस हो रही है। इस प्रकार पूरे वैश्विक परिदृश्य में हिन्दी का प्रसार हो रहा है और इसके भविष्य में भी जारी रहने की प्रबल संभावना है। (धरती से ३६००० फीट से भी अधिक ऊँचाई पर हिंदी की कमी का अनुभव होने लगा है तथा विदेशी वायुसेवा कंपनियाँ, विशेषकर यूरोप की कम्पनियाँ हिंदी को अपनी आवश्यकता बता रही हैं। आस्ट्रियन एयरलाइन्स, स्विस एयरलाइन्स, एयर फ्रान्स आदि के अनुसार भारतीय यात्रियों की लगातार हो रही वृद्धि को दृष्टिगत करते हुए उन्हें भारत की अपनी प्रत्येक उड़ान में कम से कम ऐसे दो क्रू की आवशयकता महसूस हो रही है जो हिंदी बोलना जानते हों।) भूमंडल में भारत देश की उभरती आर्थिक शक्तियाँ हिंदी भाषा के द्वारा भी मुखरित हो रही हैं। वैश्वीकरण के इस दौर में भारत एक अच्छा उपभोक्ता है, तो फिर उस बाजार की भाषा जाने बिना विक्रेता का लाभ कैसे संभव है! प्रमाण यह है कि विश्व के लगभग एक सौ पचास विश्वविद्यालयों में हिन्दी को एक विषय के रूप में पढ़ाया जाने लगा है। आज के संदर्भ में विश्व का सबसे तरुण मानव संसाधन होने के कारण भारतीय पेशेवरों की तमाम देशों में लगातार मांग बढ़ रही है। जाहिर है कि जब भारतीय पेशेवर भारी तादाद में दूसरे देशों में जाकर उत्पादन के स्रोत बनेंगे। वहाँ की व्यवस्था परिचालन का सशक्त पहिया बनेंगे तब उनके साथ हिंदी भी जाएगी। ऐसी स्थिति में जहाँ भारत आर्थिक महाशक्ति बनने की प्रक्रिया में होगा वहाँ हिंदी स्वतः विश्व मंच पर प्रभावी भूमिका का वहन करेगी। इस तरह यह माना जा सकता है कि हिंदी आज जिस दायित्व बोध को लेकर संकल्पित है वह निकट भविष्य में उसे और भी बड़ी भूमिका का निर्वाह करने का अवसर प्रदान करेगा। हिंदी जिस गति तथा आंतरिक ऊर्जा के साथ अग्रसर है उसे देखकर यही कहा जा सकता है कि सन् २०२० तक वह दुनियाँ की सबसे ज्यादा बोली व समझी जाने वाली भाषा बन जाएगी यदि निकट भविष्य में बहुध्रुवीय विश्व व्यवस्था निर्मित होती है और संयुक्त राष्ट्र संघ का लोकतांत्रिक ढंग से विस्तार करते हुए भारत को स्थायी प्रतिनिधित्व मिलता है तो वह यथाशीघ्र इस शीर्ष विश्व संस्था की भाषा बन जाएगी। मास्को विश्वविद्यालय के अर्थशास्त्र विभाग के तहत जनता की समस्याओं का अध्ययन करने वाले केंद्र के एक विशेषज्ञ, रूस की विज्ञान अकादमी के भूविज्ञान संस्थान के कर्मी रुस्लान दिमीत्रियेव मानते हैं कि भविष्य में हिन्दी बोलने वालों की संख्या इस हद तक बढ़ सकती है कि हिन्दी दुनियाँ की एक सबसे लोकप्रिय भाषा हो जायेगी। सारांश यह कि हिंदी विश्व भाषा बनने की दिशा में उत्तरोत्तर अग्रसर है। भारत के पूर्व प्रधानमंत्री तथा हिन्दी के महान् कवि अटल बिहारी वाजपेयी, संयुक्त राष्ट्रसंघ महासभा को 'हिन्दी भाषा में संबोधित करने की नींव डाल चुके हैं और उस परंपरा को आगे बढ़ाने का काम हमारे वर्तमान प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी कर रहे हैं। इससे यही प्रतीत होता है कि अब वह दिन दूर नहीं जब भारत के साथ विश्व के अन्य प्रभावशाली देशों के प्रभाव से संयुक्त राष्ट्रसंघ की भाषाओं में हिन्दी भाषा भी जुड़ जाएगी और भारत के अलावा विश्व के अन्य देश भी संयुक्त राष्ट्र संघ में हिन्दी में अपने विचार व्यक्त कर सकेंगे तथा सदन की कार्यवाही को हिन्दी में सुन सकेंगे। इस प्रकार यह कहा जा सकता है कि निकट भविष्य में विश्व की सबसे सशक्त भाषा बनकर उभरेगी जो किसी परिचय की मोहताज नहीं होगी।