ALL Cover Story Story Health Poems Editorial
विज्ञान के क्षेत्र में हम 19 जह21 हैं : हर्षवर्धन
June 1, 2017 • Parmod Kaushik

केद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्यौगिकी मंत्री डॉ.हर्षवर्धन ने आज कहा कि भारत विज्ञान के क्षेत्र में प्रगति के मामले में आज दुनिया के अग्रणी देशों में है और अमेरिका, इंग्लैण्ड, जापान तथा कोरिया सहित 80 से अधिक देशों के साथ सहयोग कर रहा है। उन्होंने यह भी कहा कि मीडिया वैज्ञानिक नवोन्मेष से जन-जन को अवगत कराने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है। वे विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्रालय तथा दिल्ली पत्रकार संघ द्वारा वैज्ञानिक और तकनीकी प्रगति के प्रसार में मीडिया की भूमिका' विषय पर आयोजित कार्यशाला में बोल रहे थे। सीएसआईआर के महानिदेशक डॉ. गिरीश साहनी भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद् (सीएसआईआर) देश को विज्ञान के क्षेत्र में ऊँचाइयों पर ले जाने के लिए निरंतर काम कर रही है और हम विज्ञान के क्षेत्र में 19 नहीं, 21 हैं। उन्होंने कहा कि दुनिया के 1,203 सरकारी अनुसंधान संगठनों में भारत की सीएसआईआर आज शीर्ष 12वें स्थान पर है। वहीं, दुनिया के कुल 5,147 अनुसंधान संगठनों में से सीएसआईआर शीर्ष 100 संगठनों में शामिल है और इसका 99वाँ नंबर है।

मंत्री ने कहा कि भारत की विज्ञान वृद्धि दर कुल अंतरराष्ट्रीय विज्ञान वृद्धि दर के मुकाबले काफी अधिक है। नैनो प्रौद्योगिकी में देश आज तीसरे नंबर पर है। उन्होंने कहा कि भारत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में लगातार प्रगति कर रहा है। उन्होंने अंतरिक्ष क्षेत्र में देश की उपलब्धियों को याद करते हुए कहा कि यह भारत ही है जो एक साथ 104 उपग्रह एक साथ कक्षा में स्थापित कर सकताहै। डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि देश की सुनामी चेतावनी प्रणाली एक बेहतरीन प्रणाली है तथा भारत आज अन्य तटवर्ती देशों को भी सुनामी पूर्व चेतावनी जारी करता है। यह देश के वैज्ञानिकों की काबिलियत की वजह से ही संभव हुआ है । उन्होंने कहा कि वैज्ञानिक क्षेत्रीय कनेक्टिविटी के लिए छोटे विमान बनाने पर भी काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि वैज्ञानिक नवोन्मेष के प्रचार-प्रसार में मीडिया काफ़ी बड़ी भूमिका निभा सकता हैऔर वह निभा भी रहा है।

इस अवसर पर डॉ. गिरीश साहनी ने सीएसआईआर द्वारा विज्ञान, प्रोद्योगिकी आदि क्षेत्र में किये जा रहे विभिन्न नवोन्मेषों से मीडिया को अवगत कराया। उन्होंने पीने के पानी को शुद्ध करनेवाली चलती-फिरती लैब से लेकर मधुमेह के इलाज में कारगर आयुर्वेदिक दवाइयों तक अनेक अनुसंधानों का जिक्र किया। उन्होंने कहा की सीएसआईआर मानव जीवन के अनेक क्षेत्रों को निकट से प्रभावित कर रहा है। दिल्ली पत्रकार संघ के अध्यक्ष मनोहर सिंह ने डॉ. हर्षवर्धन द्वारा 1994 में शुरू किये गए पल्स पोलियो अभियान का स्मरण करते हुए कहा की उनके इस प्रयास से आज भारत पोलियो मुक्त हो सका है। उन्होंने उम्मीद जताई कि उनके नेतृत्व में विज्ञान एवं प्रोद्योगिकी मंत्रालय भी ऐसे प्रतिमान स्थापित करेगा, जिन्हें भारत ही नहीं पूरा विश्व स्मरण रखेगा।

दिल्ली पत्रकार संघ के महासचिव प्रमोद कुमार ने डॉ. हर्षवर्धन को आश्वस्त किया कि उनके मंत्रालय द्वारा किये जा रहे जनोपयोगी अनुसंधानों को जन-जन तक पहुँचाने में दिल्ली पत्रकार के सदस्य पूर्ण मनयोग से सहयोग करेंगे। वरिष्ठ पत्रकार मनोज मिश्र ने दिल्ली पत्रकार संघ की गतिविधियों का जिक्र करते हुए कहा कि राजधानी दिल्ली में कार्यरत लगभग सभी मीडिया संस्थानों में काम करनेवाले पत्रकार संगठन के सदस्य हैं और पत्रकारों एवं मीडिया से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर संगठन सदैव मुखर रहा है। नेशनल यूनियन अफ जर्नलिस्ट्स इंडिया के अध्यक्ष रासबिहारी, डॉ. नन्दकिशोर त्रिखा, राजेंद्र प्रभू व के.एन. गुप्ता सहित अनेक वरिष्ठ नेता भी इस अवसर पर उपस्थित थे। दिल्ली पत्रकार संघ के उपाध्यक्ष राकेश आर्य, राकेश थपलियाल, अनुराग पुनेठा, राकेश शुक्ला, नेत्रपाल (कोशाध्यक्ष), मयंक सिंह (सचिव), संजीव कुमार और कार्यकारिणी सदस्यों सहित 250 से अधिक पत्रकार इस अवसर पर उपस्थित थे।