ALL Cover Story Story Health Poems Editorial
विकारों से मुक्ति के लिए शरीर को तरंग रूप में अनुभव करना ही विपश्यना है
August 30, 2019 • सीताराम गुप्ता

विपश्यना के आचार्य सत्यनारायण गोयंका कहते हैं :

भोगत-भोगत भोगते बंधन बंधते जायं, देखत-देखत देखते बंधन खुलते जायं।

कैसा होता है देखना और किसको देखना? देखने मात्र से ऐसे कौन से बंधन हैं जो खुल जाते हैं? जे कृष्णामूर्ति कहते हैं कि द्रष्टा ही दृश्य है तो क्या स्वयं द्वारा स्वयं को देखना ही बंधनमुक्त होना है? जी हाँ, स्वयं द्वारा स्वयं को देखना ही मुक्त होने का मार्ग है और इसी देखने का नाम है 'विपश्यना'। आत्म- निरीक्षण की प्रक्रिया द्वारा स्वयं को और स्वयं के माध्यम से वस्तुओं और स्थितियों को उनके यथार्थ रूप में देखने की योग्यता ही 'विपश्यना' है।

हिंदू धर्म में मोक्ष की प्राप्ति अनिवार्य मानी गई है। जन्म और मृत्यु के बंधन से मुक्त होना मोक्ष माना गया है और इसके लिए ईश्वर की कृपा पाना अनिवार्य है। ईश्वर की कृपा पाने लिए अनिवार्य है भक्ति मार्ग का अवलंबन लेकिन बौद्ध मत के अनुसार मुक्ति के लिए किसी ईश्वरीय अथवा दैवी अनुकंपा की आवश्यकता नहीं। बौद्ध मत के अनुसार वस्तुओं और स्थितियों को उनके यथार्थ रूप में देखने। की योग्यता उत्पन्न होना ही मुक्ति अथवा मोक्ष है और इसे ही निर्वाण कहा गया है। स्वयं को तथा संसार की सारी वस्तुओं को मात्र देखना और उनके प्रति राग-द्वेष का भाव न रखते हुए आगे बढ़ जाना यही साधना निर्वाण की प्राप्ति में सहायक है। गीता में वर्णित 'समत्वं योग उच्यते' की तरह समता भाव में स्थित होना ही निर्वाण है।

संसार अथवा संसार की वस्तुओं के वास्तविक स्वरूप को जानने के लिए आवश्यक है स्वयं के वास्तविक स्वरूप को जानना। स्वयं को जान लेंगे तो संसार को जान लेंगे तथा संसार को जान लेंगे तो स्वयं को और अधिक अच्छी प्रकार से जानना संभव हो सकेगा क्योंकि यथा पिंडे तथा ब्रह्माडे। यही जानने की एक विधि है विपश्यना। विपश्यना में सालासो पह लो। हमा केवल श्वास के आवागमन पर ध्यान केंद्रित करने का अभ्यास करते हैं जिसे 'आनापान' कहते हैं। आनापान के अभ्यास के बाद 'विपश्यना' अर्थात् स्वयं का मानसिक निरीक्षण करने की प्रक्रिया प्रारंभ होती है।

स्थूल से सूक्ष्म अंतरावलोकन की प्रक्रिया है 'विपश्यना'।

विपश्यना की पहली कड़ी है आनापान जो बहुत ही सरल है। किसी भी आरामदायक स्थिति में बैठकर कोमलता से आँखें बंद कर लें। कमर और गर्दन सीधी रखें और अपना सारा ध्यान अपने श्वास के आवागमन के निरीक्षण पर लगा दें। इसमें करना कुछ भी नहीं है मात्र श्वास प्रक्रिया का अवलोकन करना है। श्वास के आने और जाने को देखना है। श्वास की गति को । देखना है न कि उसकी गति को प्रभावित करना है। संपूर्ण ध्यान श्वास की गति को देखने में लगाना है। इस दौरान ध्यान श्वास प्रक्रिया के अवलोकन से हटकर अन्यत्र केंद्रित हो सकता है अथवा इधर-उधर भटक सकता है।

जे. कृष्णामूर्ति भी यही कहते हैं कि मन पर नियंत्रण रखने का एक ही उपाय है कि उसे बाँधिये मत। उसे विचरने दीजिए। आप कुछ मत कीजिए सिर्फ साक्षी बने रहिए। इस प्रक्रिया में आप पाएँगे कि आपका उच्छृखल मन शांत होकर आपके पास लौट आया है। उसके बाद आप आसानी से अपने मन को अपने नियंत्रण में कर सकते हैं। साधना का उद्देश्य भी तो यही है कि हमारा मन हमारे वश में हो। एक पालतू परिंदे की तरह मन की उड़ान पर हमारा पूरा नियंत्रण हो। मन गलत दिशा में उड़ान न भरे केवल सही दिशा में उड़ान भरे।

आनापान के बाद शुरू होती है विपश्यना। विपश्यना अर्थात् विशेष रूप से देखने की प्रक्रिया। विपश्यना शरीर के विभिन्न अंग-प्रत्यंगों के मानसिक निरीक्षण की प्रक्रिया है। यह प्रक्रिया प्रारंभ होती है सहस्रार से। सबसे पहले सहस्रार को ध्यानपूर्वक देखना है। एक बार उसका स्पंदन पकड़ में आ जाए तो उसका निरीक्षण कर फौरन आगे बढ़ जाना है। सहस्रार के बाद मस्तिष्क और चेहरे का अवलोकन। एक-एक अंग को ध्यानपूर्वक देखते हुए आगे बढ़ना है। कान, नाक, आँखें, होंट, गाल और चिबुक सबको ध्यानपूर्वक देखते हुए आगे बढ़ना है। जो जैसा भी है उसको देखना और आगे बढ़ जाना। बिना अच्छे- बुरे का निर्णय किए, बिना सुख-दुख का अनुभव किए बस देखना और आगे बढ़ जाना यही तो साक्षी भाव है। यही साक्षी भाव ही विपश्यना है। __

चेहरे के बाद गर्दन का अवलोकन और गर्दन के बाद कंधों और पीठ का अवलोकन। इसी तरह गर्दन के बाद दोनों बाहों से एक साथ ध्यान गुजारते हुए हाथों और हाथों की उंगलियों के पोरों तक की मानसिक यात्रा। वापस गर्दन और गले को देखते हुए नीचे वक्षस्थल और उदर का अवलोकन। हृदय, यकृत और गुर्दो का अवलोकन तथा पाचनतंत्र का अवलोकन। इसके बाद सारा ध्यान कूल्हों पर। कूल्हों से नीचे उतरते हुए दोनों जंघाओं से ध्यान गुजारते हुए, घुटनों और पिंडलियों से होते हुए टखनों, एड़ियों और दोनों पैरों के तलवों और पूरे पंजों का अवलोकन तथा हर उँगली और उँगली के पोरों का अवलोकन।

हर स्पंदन को देखते हुए आगे बढ़ना, कहीं नहीं रुकना। पुनः सिर से लेकर पैरों की उँगलियों तक लगातार बारबार ध्यानपूर्वक अवलोकन। अब इसका विपरीत क्रम प्रारंभ करना है। नीचे से ऊपर की ओर।

इसका भी बार-बार अभ्यास करें।  इसके बाद संयुक्त अभ्यास। पहले ऊपर से नीचे तथा बाद में नीचे से ऊपर एक साथ अभ्यास। इसके बाद दाएँ से बाएँ तथा बाएँ से दाएँ ध्यान से देखने का अभ्यास। पर्याप्त अभ्यास के बाद पुनः संयुक्त अभ्यास। इसके बाद आगे से पीछे तथा पीछे से आगे का अवलोकन। पहले गले, वक्षस्थल और उदर का अवलोकन, फिर अंदर के समस्त अंगों का अवलोकन तथा उसके बाद गर्दन, कंधों तथा पीठ का अवलोकन। ऊपर से नीचे, दाएँ से बाएँ तथा आगे से पीछे और इसका विपरीत क्रम दोहराते हुए ध्यान से देखतेदेखते मनुष्य को अपने वास्तविक स्वरूप का बोध होने लगता है। स्व का ज्ञान होना शुरू हो जाता है। देखते-देखते इस भौतिक शरीर की जड़ता, इसकी सघनता, इसका ठोसपन मिटता जाता है और शेष रह जाती है मात्र तरंगों की अनुभूति। पूरा शरीर, शरीर का हर अंग-प्रत्यंग मात्र तरंग रूप दृष्टिगोचर होने लगता है। यही विपश्यना है। ठोस शरीर को निरंतर तरंग रूप में परिवर्तित होते देखना ही विपश्यना है। एक बार अपने इस वास्तविक स्वरूप को जान लेंगे तो बाकी संसार को जानने में और उसके बाद जीते जी मोक्ष प्राप्त करने में अर्थात् मुक्त होने में कोई बाधा आ ही नहीं सकती। यही बुद्ध का मुक्ति मार्ग अथवा निर्वाण है।