ALL Cover Story Story Health Poems Editorial
बिना समर्थन के
June 20, 2019 • पूरन सरमा

मैं समर्थन की समस्या से विगत एक दशक से परेशान हूँ। कहलाने को घर का मुखिया हूँ, कमाता हूँ, सबको खिलाता-पिलाता हूँ, लेकिन तीनों बच्चों के समर्थन से सरकार घर पत्नी की ही चल रही है। मैं सदैव अल्पमत में ही बना रहा, एकाध बार ऐसा अवसर भी आया कि मैंने रिश्वत देकर एक बच्चों को तोड़ने का प्रयत्न किया-लेकिन सत्तारूढ़ सरकार के सामने नये मोर्चे को अपने पक्ष में करने में सर्वथा विफल रहाबच्चों को कई बार समझाया भी कि यारोकभी तो इस घर का मुख्यमंत्री हमें भी बनाओ। छह-छह महीने ही सही, लेकिन एक बार तो बनाओ।

इधर बच्चों का कहना है कि ऐसी सरकार बनाने से क्या फायदा जो अल्प समय में ही गिर जाए। इससे बढ़िया तो मम्मी की सरकार भली जो उन जैसे दलितों-पिछड़ों का लालन-पालन बिना किसी शर्त के करती तो रहेगी। आप सत्तारूढ़ हुए कि हमसे पढ़ाई-लिखाई तथा नौकरी-धंधे की अपेक्षा करेंगे। यह समस्या मम्मी की सरकार में बिल्कुल नहीं है। हमें टीवी देखने से फुरसत मिले तो कुछ करें वरना मायावती सरकार के अपने मजे हैं। वे यह भी कहने लगे हैं कि पापा सरकार चलाना आपके बूते के बाहर है। मम्मी साम, दाम, दंड, भेद चारों नीतियों के अलावा आपके वेतन से गबन-घोटाले और भ्रष्टाचार का मार्ग अख्तियार करके हम निर्दलियों को अपने पक्ष में बनाए रखती है। आप जेबखर्ची के नाम पर कभी फूटी कौड़ी नहीं दे पाए। हम बाजार से सामान लाते हैं उसमें घपला करके दलाली खा जाते हैं। नकली बिल प्रोड्यूज कर देते हैं। मनचाहा साबुन तथा शैम्पू लगाते हैं एवं कुरकुरे बिस्कुट व मक्खन उड़ाते हैं, भला हैं? आप यह सब सुविधाएँ मुहैया कर सकते हैं? 

उनसे मेरा तर्क होता है कि यह मेरी तनख्वाह के बूते पर हो रहा है फिर भी समर्थन तुम्हारी मम्मी को मिल रहा है या तो सरकार कृतघ्न है, तो वे हँसते हैं और कहते हैं कि पापा पहले राजनीति को जानो तथा कूटनीति को पहचानो तो समझो कि मुख्यमंत्री पद कैसे पाया जाता है। आप साफ सुथरी सरकार बनाने का कोई सपना देख रहे हैं।

समर्थन की समस्या अकेले आपकी नहीं है। सभी राज्यों के मुख्यमंत्री इससे जूझ रहे हैं। यहाँ तक कि केन्द्र सरकार भी कहीं की ईंट कहीं का रोड़ा है, लेकिन फिलहाल मामला चल रहा है - लेकिन समर्थन की समस्या तो वहाँ भी कभी भी खड़ी हो सकती है।

कहीं निर्दलियों ने थूककर चाट लिया है तो कहीं दल का दल बदलकर सत्तारूढ़ हो गया है। । खतरा बराबर सब जगह है। यही खतरा तो हमारा परम सौभाग्य है। अभी एक दल को बहुमत मिल जाए तो निर्दलियों को, अल्पमत वालों को पूछे कौन?

मेरे पास उनके प्रश्नों के उत्तर नहीं हैंतथा मेरी समर्थन की समस्या ज्यों की त्यों मुँह फाड़े खड़ी है। मैं ऊहापोह में हूँ और किंकर्तव्यविमूढ़ भी, ठीक अल्पमत सरकार की तरह जिसमें कुछ भी उगलते बनता है और न ही निगलते। साँप छछंदर का खेल है सरकार, जैसे मैं, जबकि मेरे पास पर्याप्त बहुमत है। कहते हैं बारह बरस बाद घूरे के दिन भी दिन फिर जाते हैं। अभी दो साल शेष हैं शायद। लेकिन कोई भरोसा नहीं है, क्योंकि मेरी अपनी संतानों ने ही मुझसे मुँह फेर रखा है और वे मेरा समर्थन नहीं कर रहे हैं। बिना समर्थन के मैं परेशान हूँ।