ALL Cover Story Story Health Poems Editorial
एकता के पुजारी का सर्वोच्च सम्मान स्टेच्यू ऑफ़ यूनिटी
November 1, 2018 • Sanjay Joshi

भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की प्रेरणा के अंतर्गत गजरात सरकार अब भारत के लौहपुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल को सम्पूर्ण और उपयुक्त श्रद्धाञ्जलि अर्पित करने के लिए भारत और विदेशों में लाखों भारतीयों के एक सपने को साकार करने जा रही है। सरदार पटेल के जीवन और कार्य को उचित श्रद्धाञ्जलि देने हेतु गुजरात सरकार की यह इच्छा बहुत समय से थी, इस तरह से कि यह वर्तमान पीढ़ी और भविष्य में भारतीयों को प्रेरित करना जारी रखे। इस नवीन विचार को व्यावहारिक रूप दिया जा चुका है और गुजरात के नर्मदा जिले में केवड़िया के सरदार सरोवर बाँध के 3.5 किमी दक्षिण में नर्मदा नदी के मध्य, सरदार की 182 मीटर ऊँची प्रतिमा ‘स्टेच्यू ऑफ यूनिटी' स्थापित की गई है। यह प्रतिमा 93 मीटर की ऊँचाई वाले ‘स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी' से दोगुनी और रियो डी जेनेरो ब्राजील में ‘क्राइस्ट द रिडीमर' की प्रतिमा से लगभग पाँच गुनी ऊँची है।

महान् नदी नर्मदा के बीचोबीच स्थित और सतपुड़ा और विंध्याचल पहाड़ियों के बीच में खड़ा, प्रतिष्ठित स्टेच्यू ऑफ़ यूनिटी दुनिया में सबसे ऊँचा और आधुनिक भारत के चमत्कारों में से एक होगी। अपनी डिजाइन की गई ऊँचाई पर यह स्टेच्यू एलिवेटर्स द्वारा प्रतिमा के अंदर की छाती के स्तर पर 153 मीटर की ऊँचाई पर देखने के लिए बनाई गई गैलरी में ले जाया जाएगा, जिससे वे महान् सरदार सरोवर बाँध, विंध्याचल और सतपुड़ा की सुंदर पर्वत-श्रृंखला और नर्मदा नदी देख पायेंगे। ‘श्रेष्ठ भारत भवन' की एक सुन्दर इमारत एक उच्च मानकोंवाले होटल के साथ प्रतिमा के पास बनाई गई है जिसमें परियोजना का प्रशासनिक सेटअप भी होगा। गुजरात सरकार के पर्यटन विभाग ने परियोजना में राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय यात्रियों की सुविधा के लिए 100 स्थानीय युवाओं को गाइड के रूप में प्रशिक्षित किया है।

परियोजना को लागू करने के लिए, सरदार सरोवर नर्मदा निगम लिमिटेड को जिम्मेदारी दी गई है। इस परियोजना की आगे की निगरानी के लिए ये समितियाँ भी बनाई गई हैं: 2 सरकारी परिषद् जिनके अध्यक्ष हैं सम्माननीय मुख्यमंत्री सचिव और सम्माननीय मुख्य सचिव। एक अंतरराष्ट्रीय निलामी प्रक्रिया के जरिये, टर्नर प्रोजेक्ट मैनेजमेंट इण्डिया लि. के नेतृत्व में एक कंसोर्टियम को उपर्युक्त परियोजना के लिए परियोजना प्रबन्धन सलाहकार के रूप में कार्य सौंपा गया है। कन्सल्टेंट कंसोर्टियम के काम में शामिल हैं केवडिया में स्टेच्यू ऑफ यूनिटी के लिए आर्किटेक्वरल, स्ट्रक्वरल, मैकेनिकल, इलेक्ट्रिकल, प्लम्बिंग और फायर फाइटिंग सर्विसेज, प्रोजेक्ट मैनेजमेंट और निर्माणप्रबंधन सर्विसेज, फाइनेंशियल और रिवेन्यू मॉडलिंग करना। कन्सल्टेंट कंसोर्टियम ने एक अंतरराष्ट्रीय टेंडर प्रक्रिया अपनाई और कॉन्ट्रक्टर मेसर्स एल. एण्ड टी. लिमिटेड (एसएसएनएनएल के साथ अनुबंधित) को चुना और यह परियोजना के पूरा होने तक निर्माण-कार्य का प्रबंधन भी करेंगे। एल. एण्ड टी. के पास 15 साल की समय अवधि के लिए परियोजना को पूरी करने, संचालन और रख-रखाव की ज़िम्मेदारी होगी।

आगे और-----