ALL Cover Story Story Health Poems Editorial
ऊर्जा : स्वरूप, स्रोत तथा उपयोग ऊर्जा : स्वरूप, स्रोत तथा उपयोग
July 1, 2017 • E. Hemant Kumar

'हम जब भी कोई काम करते हैं, तो उसे करने के लिए ताकत की जरूरत होती हैं और इस ताकत को पैदा करने के लिए ऊर्जा की। हमारे आसपास तथा दुनिया में जो बदलाव होते हैं, वे किसी-नकिसी ऊर्जा के कारण होते हैं। प्रत्येक वस्तु जिस अवस्था में होती हैं उसी में रहना चाहती है। इसके स्थान, रूप, अवस्था या अन्य किसी भी प्रकार के परिवर्तन के लिए ऊर्जा की आवश्यकता पड़ती है। ऊर्जा एक रूप से दूसरे में तो बदली जा सकती है, परन्तु न 'म जब भी कोई काम करते हैं, तो उसे करने के लिए ताकत की जरूरत होती हैं और इस ताकत को पैदा करने के लिए ऊर्जा की। हमारे आसपास तथा दुनिया में जो बदलाव होते हैं, वे किसी-नकिसी ऊर्जा के कारण होते हैं। प्रत्येक वस्तु जिस अवस्था में होती हैं उसी में रहना चाहती है। इसके स्थान, रूप, अवस्था या अन्य किसी भी प्रकार के परिवर्तन के लिए ऊर्जा की आवश्यकता पड़ती है। ऊर्जा एक रूप से दूसरे में तो बदली जा सकती है, परन्तु न तो किसी ऊर्जा को नष्ट किया जा सकता है, और न ही पैदा। सरल शब्दों में ऊर्जा एक प्रकार की ताकत है जो किसी भी कार्य को करने के लिए जरूरी होती है। तो किसी ऊर्जा को नष्ट किया जा सकता है, और न ही पैदा। सरल शब्दों में ऊर्जा एक प्रकार की ताकत है जो किसी भी कार्य को करने के लिए जरूरी होती है।

ऊर्जा की आवश्यकता एवं महत्त्व 

वाहनों का स्थान बदलते हुए हम उन्हें एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाते हैं। और उसमें बगैर थके लम्बी यात्रा कर लेते हैं। वाहनों का स्थान बदलते हुए हम उन्हें एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाते हैं। और उसमें बगैर थके लम्बी यात्रा कर लेते हैं।

लोहे के टुकड़े का रूप बदलकर उसकी कुल्हाड़ी, चाकू या फावड़ा बना देते हैं, जिससे लकड़ी काटना एवं घरेलू काम करना बहुत सरल हो जाता है। लोहे के टुकड़े का रूप बदलकर उसकी कुल्हाड़ी, चाकू या फावड़ा बना देते हैं, जिससे लकड़ी काटना एवं घरेलू काम करना बहुत सरल हो जाता है।

पानी को ठण्डा करते हैं जिससे उसका रूप बदल जाता है। वह बर्फ बन जाती है, फिर इसको अनेक जगह प्रयोग कर लाभ उठाते हैं। पानी को ठण्डा करते हैं जिससे उसका रूप बदल जाता है। वह बर्फ बन जाती है, फिर इसको अनेक जगह प्रयोग कर लाभ उठाते हैं।

ईंधनों को जलाकर इंजन चलाए जाते हैं जिससे विभिन्न कल- कारखानों तथा वाहन चलते हैं जो हमारे लिए बहुत जरूरी है। ईंधनों को जलाकर इंजन चलाए जाते हैं जिससे विभिन्न कल- कारखानों तथा वाहन चलते हैं जो हमारे लिए बहुत जरूरी है।

विभिन्न तरीकों से विद्युत पैदा करते हैं जिससे मोटर, पंखे, टी.वी., कूलर, बल्ब, रेफ्रिजरेटर सहित सैकड़ों उपकरण चलते विभिन्न तरीकों से विद्युत पैदा करते हैं जिससे मोटर, पंखे, टी.वी., कूलर, बल्ब, रेफ्रिजरेटर सहित सैकड़ों उपकरण चलते हैं, जिससे हमारा जीवन आसान, सुविधाजनक तथा बेहतर हो जाता है। हैं, जिससे हमारा जीवन आसान, सुविधाजनक तथा बेहतर हो जाता है।

हमारे लिए कृषि-कार्य, कपड़ा-उद्योग, चिकित्सासम्बन्धी उपकरण चलाने के लिए विद्युत की आवश्यकता होती है जिसे पैदा करने के लिए ऊर्जा की ज़रूरत होती है। हमारे लिए कृषि-कार्य, कपड़ा-उद्योग, चिकित्सासम्बन्धी उपकरण चलाने के लिए विद्युत की आवश्यकता होती है जिसे पैदा करने के लिए ऊर्जा की ज़रूरत होती है।

उक्त के अतिरिक्त अनगिनत स्थानों पर ऊर्जा की आवश्यकता पड़ती है, इस कारण ऊर्जा का हमारे लिए विशेष महत्त्व है। ऊर्जा के ऐसे स्रोत, जो सस्ते, सरल उक्त के अतिरिक्त अनगिनत स्थानों पर ऊर्जा की आवश्यकता पड़ती है, इस कारण ऊर्जा का हमारे लिए विशेष महत्त्व है। ऊर्जा के ऐसे स्रोत, जो सस्ते, सरल तथा पर्यावरण के अनुकूल हों, हमारे लिए बहुत महत्त्वपूर्ण होते हैं। तथा पर्यावरण के अनुकूल हों, हमारे लिए बहुत महत्त्वपूर्ण होते हैं।

विभिन्न प्रकार की ऊर्जा स्वरूप, स्रोत तथा उपयोग 

यूँ तो ऊर्जा अदृश्य होती है, परन्तु जब यह अपना रूप बदलती है या कोई कार्य करती है, तब हम इसके अस्तित्व को महसूस कर सकते हैं। पृथिवी पर अनेक प्रकार की ऊर्जा मौजूद है। इनका वर्गीकरण कई प्रकार से किया जा सकता है। इसमें प्रमुख वर्गीकरण निम्नवत् हैः यूँ तो ऊर्जा अदृश्य होती है, परन्तु जब यह अपना रूप बदलती है या कोई कार्य करती है, तब हम इसके अस्तित्व को महसूस कर सकते हैं। पृथिवी पर अनेक प्रकार की ऊर्जा मौजूद है। इनका वर्गीकरण कई प्रकार से किया जा सकता है। इसमें प्रमुख वर्गीकरण निम्नवत् हैः

आगे और---